नाशपाती- स्वाद में शानदार गुणों में जानदार। नाशपाती के फायदे । - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Sunday, August 4, 2019

नाशपाती- स्वाद में शानदार गुणों में जानदार। नाशपाती के फायदे ।

नाशपाती के फायदे 

ना

शपाती एक ऐसा फल है जिसे कौन नही जानता हाँ आजकल के परिवेश में बस यह हो सकता है कि आजकल बच्चे इसे नाशपाती नही तो पीयर्स के नाम से जानते होंगें क्योंकि आधुनिक युग में माताओं में ही नही अपितु दादी नानी बूआ मौसी सभी में क्रेज है कि बच्चा इंग्लिस के शब्दों को अवश्य ही जानना चाहिये। क्योंकि इससे बच्चे का ही नही अपितु सारे घर वालों का समाज में सम्मान बढ़ जाता है लैकिन इसके साथ साथ यह भी हमें अवश्य ही याद रहना चाहिये कि कोई भी भाषा सीखना अच्छी बात है किन्तु साथ ही साथ अपनी मात्रभाषा के ज्ञान के बगैर सब अधूरा ही है।खैर
आइये जानते हैं इस शानदार स्वाद के मालिक जानदार फल के बारे में
नाशपाती हरे रंग का एक मौसमी फल है। जो देखने में काफी हद तक हरे सेब जैसा लगता है। यह खाने में मीठा व मोटे छिलके वाला फल है।
नाशपाती को वैसे हम लोग केवल एक सामान्य फल की तरह देखते हैं किन्तु अपने नाम के अनुरूप यह अनेकों रोगों का नाशपीट देता है। और शायद हमारे बुजुर्गों ने इसका नाम इसी कारण से नाशपाती रखा। इसके वावजूद इसके पोषक तत्वों के बारे में कोई विशेष जानकारी न होने की वजह से यह आज भी बहुत अधिक प्रचलित फल नहीं है। लैकिन आज मेरे जहन में आया कि लाओ अपने ब्लाग रीडर्स को इस फल के गुणों के बारे में एक विस्तृत जानकारी प्रदान कर दूँ जिससे कि आप लोग इसका भरपूर लाभ उठा सकें।. और आपको ये जानकर हैरानी होगी कि नाशपाती के फायदे किसी भी अन्य फल की तुलना में कम नहीं है:
नाशपाती जिसे अंग्रेजी में Pear भी कहा जाता है, फाइबर से भरपूर ऐसा फल है जिसमें किसी भी अन्य फल की अपेक्षा ज्यादा मात्रा में फाइबर होता है। एक फल हमारी दैनिक जरूरत का 25% फाइबर हमें प्रदान कर सकता है। नाशपाती हमारे पेट, आंतों, दिल और  स्किन आदि के लिए बहुत फायदेमंद होती है।

नाशपाती में पाये जाने वाले पोषक तत्व---Nutrients in Pear---
नाशपाती में पर्याप्त मात्रा में विटामिन C , K , B 2 , B 3 और B 6 होते है। इसके अलावा इससे कैल्शियम , पोटेशियम, कॉपर मैग्नीशियम आदि खनिज प्राप्त होते है। इसमें नुकसान करने वाले सोडियम , फैट या कोलेस्ट्रॉल बिल्कुल नहीं होता। नाशपाती खाने से कैंसर जैसे रोग से बचाव हो सकता है।
इसे छिलके ( Pear skin ) सहित खाना चाहिए क्योंकि छिलके में बहुत महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते है।
दुनिया में नाशपाती का सबसे ज्यादा उत्पादन चीन में होता है। नाशपाती मौसमी फल है। भारत में इस फल का आगमन यूरोप से हुआ है। अब भारत में नाशपाती की खेती बहुत होने लगी है।
नाशपाती की किस्में अर्थात बैरायटीज-----
नाशपाती सेब की प्रजाति का फल है। सेब की तरह ही यह भी भारत के ठंडे इलाकों में पैदा होता है आजकल कृषक सेब से अधिक नाशपति को महत्व दे रहे है। नाशपाती का पेड़ हर साल फल देता है। बारिश के मौसम जुलाई -अगस्त में ताजा नाशपाती बाजार में खूब मिलती है। इसकी तीन प्रकार की किस्में  मिलती है
यूरोपीय नाशपाती – ये नर्म , मीठी और रसदार होती है। खाने के लिए बहुत ये उपयुक्त होती है। इसके जल्दी खराब होने की सम्भावना होती है।
चाइनीज नाशपाती – ये नाशपाती सख्त और खाने मे थोड़ी खट्टी होती है । ये खाने में कम लेकिन मुरब्बा आदि बनाने में ज्यादा काम आती है। इस किस्म की नाशपाती का उत्पादन सबसे ज्यादा होता है। एक पेड़ लगभग 150 किलो फल दे देता है।
यूरोपीय चाइनीज संकर – नख इसी किस्म की नाशपाती है। ये खाने में नर्म और मीठी होती है। यूरोपीय नाशपाती की अपेक्षा अधिक टिकती है। सभी तरह की नाशपाती के गुण लगभग समान होते है।
 के गुण लगभग समान होते है।

नाशपाती के विभिन्न रोगों में फायदे-------


1.    पाचनतंत्र की मजबूती---- नाशपाती फाइबर से भरपूर सेहत का खजाना है एक नाशपती के मध्यम आकार के फल में लगभग 6 ग्राम फाइबर होता है। जो कि हमारी दैनिक आवश्यकता के 25% के बराबर होता है। इसमें घुलनशील और अघुलनशील दोनों प्रकार के फायबर प्रचुर मात्रा में होते है और इसी फाइबर की वजह से हमारा पाचन तंत्र मजबूत बनता है। इसमें पैक्ट‍िन नामक एक तत्व भी पाया जाता है जो कब्ज के लिए रामबाण है। दूसरा यह पाचन क्रिया को बेहतर बनाने के लिए न केवल पाचक रसों को सक्रिय करता है बल्कि आंतों की क्रियाविधि को बेहतर भी बनाता है। 
2.    हीमोग्लोबिनके स्तर में वृद्धि---- नाशपाती में प्रचुर मात्रा में आयरन भी पाया जाता हैजो हमारे हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता है। एनीमिया से पीड़ित व्यक्ति को प्रचुर मात्रा में नाशपाती का सेवन करना चाहिए।
3.    बैड कोलेस्ट्रॉल स्तर को घटाकर हार्ट अटैक से बचाना----नाशपाती में कुछ ऐसे यौगिक भी पाए जाते हैं जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करने का काम करते हैं। इसी बैड कोलेस्ट्रॉल की वजह से हमारा शरीर कई बीमारियों का घर बन जाता है। और इस तरह दिल के रोगों से बचाते हैं। नाशपाती खाने से मिलने वाला फायबर टाइप डायबिटीज होने की सम्भावना को भी कम करता है।
4.    रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना---- नाशपाती में एंटी ऑक्सीडेंट और विटामिन सी भी अच्छी मात्रा पाई जाती हैं जिनकी वजह से हमारी रोग प्रतिरक्षा प्रणाली अर्थात इम्यून सिस्टम बेहतर बनता है और शरीर को विभिन्न रोगों से लड़ने की ताकत मिलती है।
5.     शुगर के मरीजों, घेंघा रोग से पीड़ित होने पर, एनीमिया, गठिया आदि में नाशपाती का सेवन काफी लाभप्रद साबित होता है। इसमें आयोडीन भी भरपूर मात्रा में होता है और यह घाव को जल्दी भरने में सहायक है।
6.    कैल्शियम लेवल को बनाऐ रखना----- हड्ड‍ियों से जुड़ी किसी समस्या के लिए नाशपाती का सेवन फायदेमंद रहता है। इसमें बोरॉन नामक रासायनिक तत्व पाया जाता है जो कैल्शियम लेवल को बनाए रखने में कारगर होता है। इसके अलावा नाशपाती में मौजूद विटामिन K भी हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है।
7.    विटामिन K रक्त के थक्का बनने या खून बहना रुकने की प्रक्रिया के लिए भी जरूरी होता है । नाशपाती का सेवन करने से त्वचा पर चम‍क आती है तथा इससे बॉडी को एनर्जी भी मिलती है।
8.    नाशपाती का नियमित उपयोग करने से आँखों में होने वाली ARMD ( Age Related Macular Degeneration ) नामक बीमारी से बचाव होता है। इस बीमारी में बीच के भाग का दृश्य काला दिखाई देने लगता है , उसके आस पास का दृश्य ठीक दिखाई देता है 
9.    नाशपाती में पाये जाने वाला फाइबर आंतों के कैंसर से बचाता है। और यह कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल में रखने में मददगार होते है ।
10.           विटामिन C , विटामिन K और कॉपर आदि तत्वों से स्किन की कोशिकाओं को बल मिलता है। ये तत्व शरीर के लिए नुकसान देह फ्री रेडिकल्स से भी बचाते है। इसकी वजह से झुर्रियां आदि नहीं होती तथा कैंसर जैसे रोगों से बचाव होता है। स्किन हमेशा स्निग्ध और चमकदार बनी रहती है। अतः सुन्दर कोमल त्वचा के लिए नाशपाती नियमित खानी चाहिए।
              Also Read it---   फ्रूट्स पील आलसो हील
11.           नाशपती के छिलके में बहुत महत्वपूर्ण तत्व जैसे फ्लेवोनोइड्स , फिटो न्यूट्रिएंट्स और एंटीऑक्सीडेंट जैसे  क्यूरसेटिन आदि होते है जो कई प्रकार की बीमारियों से रक्षा करने में मदद करते है। ये तत्व ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करते है और कैंसर से भी बचाते है। अतः नाशपती का छिलका अवश्य खाना चाहिए।
12.           पेक्टिन नाम का तत्व नाशपाती में बहुत होता है। यह आंतों को मजबूत बनाता है और रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम करने में सहयक होता है। नाशपाती में विटामिन K होता है जो ह्रदय की धड़कन और मांसपेशियों के लिये आवश्यक होता है।
इसके छिलके में गूदे में फायबर ही फायबर होता है। इसलिए इसे छिलके सहित खाना चाहिए। नाशपती आंतों की सफाई करके कब्ज से मुक्ति दिलाती है।



2 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन नये भारत का उदय - अनुच्छेद 370 और 35A खत्म - ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. श्री मान हर्षवर्धन जी आपके इस ब्लाग पर आपके आगमन पर आपका हार्दिक अभिनन्दन और मेरे ब्लाग को अपने ब्लाग बुलेटिन पर स्थान देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यबाद। वैसे आज हम लोगों (समस्त भारतीय) के लिए परम गौरव का दिन है कि हमने भारत माता के भाल पर लगे उस घाव के दागों को मिटा दिया जो हमे एक छद्म प्रधानमंत्री द्वारा की गयी साजिस के परिणाम स्वरुप प्राप्त हुये थे।आज मैं भारत पुत्र और भारत की आजादी के परम उन्नायक श्री नरेन्द्र भाई मोदी और श्री अमित शाह जी के साथ ही उन समस्त भारत पुुत्रों को सादर प्रणाम करता हूँ जिन्हौने इस पवित्र कार्य में अपना तिलमात्र भी सहयोग किया है। वन्दन करता हूँ भारत की उस जनता जनार्दन को जिसने भारत पुत्र श्री नरेन्द्र भाई मोदी के हाथों में यह शक्ति सौंपी जिससे वे इस कार्य को पूर्ण कर सके आज वास्तव में भारत की आजादी का सूत्रपात हुआ है। हम अब आजादी की और वास्तव में बढ़ रहे है। शायद जल्दी ही हम भारत माता को परम वैभव पर पहुँचाऐंगें। इसी सपने को साकार करने के लिए केवल मोदी शाह अथवा योगी ही नही हम सभी को लगना होगा तभी भारत माता अपने परम वैभव को प्राप्त कर सकेगी। भारत माता के परम वैभव पर पहुचाने के मार्ग में आने वाली बाधाओं को हम जल्दी ही दूर कर लेगें।और सफलता का आगाज हो चुका है इसी आशा के साथ आपका अपना ज्ञानेश कुमार वार्ष्णेय

    ReplyDelete

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।