आयुर्वेद के अनुसार पांच तत्वों की थाली - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Sunday, August 11, 2019

आयुर्वेद के अनुसार पांच तत्वों की थाली

आजकल के समय में सर्वाधिक जोर अपनी लाइफ स्टाइल को हेल्दी बनाने पर दिया जा रहा है और जब हेल्दी की बात होती है तब हर जागरुक व्यक्ति आयुर्वेद अनुसार खाना पीना रखना चाहता है क्योंकि इस पद्धति से खाना पीना ज्यादा स्वास्थ्य पर रहता है ऐसा आजकल सामान्य विचार है यह कहे कि आजकल का वातावरण इतना प्रदूषित हो चुका है कि इसका इलाज केवल और केवल आयुर्वेद में दिखाई देता है क्योंकि इसमें संपूर्ण पोषक तत्व अपने प्राकृतिक तत्व के रूप में मिलती है क्योंकि इन्हीं मूल तत्वों से प्रकृति की हर चीज का निर्माण हुआ है यह है क्षिति जल पावक अनल और समीर इसमें क्षिति अर्थात आकाश,जल, पावक अर्थात पावक अर्थात अग्नि अनल अर्थात पृथ्वी और समीर और वायु है
और इसी तरह इन तत्वो वाला भोजन संतुलित रूप में बनाना ही आयुर्वेदिक रसोई कहलाता है वास्तव में हमारा शरीर और हमारा भोजन दोनों ही पांच आवश्यक तत्वों अर्थाात पंच तत्वों से मिलकर बनी है और आयुर्वेदिक भोजन हमारे शरीर में  इन तत्व संतुलन बनाए रखता है आयुर्वेदिक रसोई कोई नई तकनीकी नहीं है बल्कि इसमें पारंपरिक विधि भोजन की गुणवत्ता को बरकरार रखा जाता है खाना नियमित रूप से खाना और खाने के बीच में अंतराल रखना भी बड़ी ही अहम बात होती है।
प्रकृति पंच तत्वों से बनी है-- 
प्रकृति पांच तत्वों से मिलकर बनी है पृथ्वी जल वायु अग्नि और आकाश हर तत्व में बाकी के चार तत्व भी अंश रूप में रहते हैं। और इनकी कमी या अधिकता हमारे शरीर में तीन प्रकार के दोषों के रूप में प्रकट होती है वात पित्त और कफ हर व्यक्ति को अलग अलग तरह से उसकी जन्म की प्रकृति के आधार पर प्रभावित करते हैं जन्म के समय व्यक्ति की जो प्रकृति होती है उसी के अनुसार उसके शरीर में दोष निर्मित होते हैं। अक्सर लोगों की प्रकृति दो दोषों के योग से बनी होती है। और खास बात यह है कि स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में सभी दोष सन्तुलन में रहतेहैं। लेकिन जैसे ही कोई तत्व असंतुलित होता है शरीर मे उस तत्व से संबंधित दोष प्रभावी होकर अपने लक्षण प्रकट कर देता है। और परिणामस्वरूप शरीर असामान्य स्थिति मे आकर सर्वप्रथम पाचन क्रिया प्रभावित हो जाती है। और इस कारण से शरीर मे भोजन पाचन के फल स्वरूप बनने वाली धातुओं जैसे  रस रक्त मांस मेद अस्थि मज्जा और वीर्य में से किसी भी स्तर पर गङवङी आ सकती है।वास्तव में यह सब होता है बात पित्त व कफ और इससे भी आगे बात करें तो जल आकाश पृथ्वी वायु अथवा अग्नि के असंतुलन के आधार पर ही। इसके फलस्वरूप शरीर से टाक्सिन्स पैदा होने लगते है। और इसके कारण से शरीर की प्रतिरोधक शक्ति कम हो जाती है। और इस तरह से बीमारियां हो जाती हैं।
 पाचनक्रिया पर प्रभाव---
विभिन्न दोषों के प्रभाव से शरीर,खाने मे रुचि और पाचन क्रिया प्रभावित होती है। साथ ही इसका प्रभाव व्यक्ति के मन मस्तिष्क पर भी पड़ता है। उदाहरणार्थ कफ के प्रकुपित हो जाने पर धीमी पाचन शक्ति ,भाव स्थिरता इत्यादि कफ अर्थात पृथ्वी तत्व के असंतुलन के बाद होती है। इसी प्रकार अग्नि तत्व के असंतुलन से भोजन का पाचन तेज गति से होगा और गुस्सा ज्यादा आएगा अगर अग्नि अर्थात पित्त वढ़ा होगा तव। इसी कारण जब भी कोई दोष विगड़ जाने पर सर्वप्रथम भोजन पर
ही ध्यान देना चाहिए। ऐसा करने से आप शरीर के दोषों को संतुलित कर सकते हो। इससे शरीर मे वढ़ा हुआ दोष संतुलित हो जाता है।
भोजन पौष्टिक व पौषक तत्वों से भरपूर हो---
आयुर्वेद के अनुसार भोजन स्वस्थ रहने और दीर्घायु होने में अहम भूमिका निभाता है अगर आप का भोजन ठीक नहीं है खाने का तरीका सही नहीं है तो इसका असर आपके स्वास्थ्य पर भी होगा अधिकतर बीमारियां होने का मूल कारण अस्वास्यप्रद  भोजन और गलत तरीके से भोजन करना ही है।इसीलिए आयुर्वेद में बीमारी की रोकथाम उपचार और स्वास्थ्य इन तीनों पर मुख्य रूप से ध्यान केन्द्रित किया गया है।इसी कारण आयुर्वेद में केवल खाना खाने और उसकी पौष्टिकता के लिए ही नियम तय नहीं किए गए अपितु खाना पकाने के तरीकों (अर्थात भोजन को पकाने मे उसकी गुणवत्ता कम न हो) पर भी जोर दिया गया है खाना पकाने का एक सिद्धांत है जो भौगोलिक परिस्थितियों और मौसम पर आधारित है आयुर्वेदिक पाकशास्त्र के अनुसार भोजन व्यक्ति की जरूरतोों कै अनुसार तैयार किया जाता है ताकि उसे रोगों से मुक्ति मिल सके। कुल मिलाकर आयुर्वेद का लक्ष्य है स्वस्थ व्यक्ति को स्वस्थ रखना और रोगी के रोग मिटाना।
आयुर्वेदिक पाकशास्त्र अर्थात आयुर्वेदिक कुकिंग क्या है।---

आयुर्वेदिक पाक शास्त्र अथवा आयुर्वेदिक कुकिंग में बताया जाता है कि क्या खाएं, किस तरह खाएं और खाना कैसे पकाए इसके तहत पोषण सही फूड कंबीनेशन फूड्स वेज फूड टाइमिंग आयल और किन के तरीकों के बारे में विस्तार से बताया जाता है आयुर्वेद के तहत भोजन तीन भागों में बांटा जा सकता है
 1- सात्विक  
 2- राजसिक
 3- तामसिक

सात्विक भोजन हल्का, शुद्ध और प्राण  ऊर्जा से भरपूर होता है इससे शरीर पवित्र होता है और मन मस्तिष्क मे संतुलन बना रहता है। वहीं राजसिक और तामसिक भोजन शरीर मे आलस्य उन्माद क्रोध आदि पैदा करता है। क्योंकि इससे शरीर मे तत्वों में असंतुलन स्थापित हो सकता है अतः इनका ज्यादा नुकसान दायक है।
भोजन मे प्रकाश और वायु का सम्पर्क---
आयुर्वेद के अनुसार भोजन पकाते समय उसमे वायु और सूर्य के प्रकाश का सम्पर्क होना ही चाहिए। इसके अलावा भोजन को ज्यादा  तापमान(118°c से अधिक) पर पकाने से भी उसके पौषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। आजकल घरों मे सर्वाधिक प्रयोग होने वाला प्रेशर कुकर किसी भी रूप में स्वास्थ्यप्रद नही कहा जा सकता है क्योंकि सर्वप्रथम तो इसका तापमान 120°c  से शुरू होता है। दूसरा यह एल्युमीनियम का बना होता है जो स्वयं हमारी प्रतिरोधक क्षमता को बुरी तरह प्रभावित करती है। इसी प्रकार ओवन मे बेकिंग करने का तापमान 140-250°c रहता है अतः बेक किया हुआ भोजन स्वास्थ्यप्रद तो नही ही कहा जा सकता। इसी क्रम मे अगर नॉनस्टिक बर्तनों की बात की जाए तो यह कार्सीनोजनिक है अतः माइक्रोवेव,एल्युमीनियम, नॉनस्टिक बर्तनो के प्रयोग से कैंसर,ब्रोंकाइटिस, अर्थराइटिस जैसे रोग हो सकते हैं।
मिट्टी के बर्तन सर्वाधिक स्वास्थ्यप्रद--
आजकल रसोई में सर्वाधिक प्रचलित बर्तन प्रेशर कुकर है जो किसी भी दाल को या सब्जी को झटपट तैयार तो कर देता है क्योंकि इसके प्रेशर के आगे बेचारी दाल की कुछ भी नहीं चलती और तुरंत उबल जाती है किंतु ज्यादा तापमान होने के कारण से पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं दूसरा जो बच जाते हैं वे भी अपने तत्वों में  विघटित नहीं हो पाते अतः प्रेशर कुकर में दाल या सब्जी अपने संपूर्ण पोषण का केवल 15% ही हमें दे पाती है वहीं मिट्टी की हाड़ी में जब हम दाल बनाने रखते हैं तो समय-समय पर खोल कर देखते हैं की गली है या नहीं, परिणामस्वरुप दाल या सब्जी में सूर्य के प्रकाश का भी मिलन हो जाता है जो आयुर्वेदिक दृष्टि से जरूरी है अतः हॉडी में बनी दाल धीरे धीरे धीमी आँच पर पकती रहती है और अपने तत्वों में बिघटित होती जाती है इससे दाल की पौष्टिकता और स्वाद दोनों ही बरकरार रहते हैं आधुनिक समय में मिट्टी का बर्तन भी आने लगा है इस में धीमी आंच पर ही भोजन स्वास्थ्यप्रद बनता है इसी प्रकार से लोहे के तवे की रोटी और भाप में पकी सब्जी भी पूर्ण पौष्टिक होती है। 
                                                             क्रमशः

2 comments:

  1. Many thanks a good deal with respect to telling this unique wonderful
    guys you actually identify whatever you’re talking just about!
    Saved as a favorite. Kindly furthermore talk to my website
    =). You can easily have got a hyperlink exchange arrangement among us!

    ReplyDelete
  2. certainly like your web site however you neded to test the spelling on quite a few of
    your posts. A number oof them are rife with spelling problems and I in finding
    it very bothersome to tell the truth then again I will
    definitely come back again.

    ReplyDelete

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।