महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बढाने वाले ये प्राकृतिक 9 आहार These natural 9 food enhancing the fertility of women - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Saturday, September 8, 2018

महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बढाने वाले ये प्राकृतिक 9 आहार These natural 9 food enhancing the fertility of women

महिलाओं की प्रजनन क्षमता को बढाने वाले ये प्राकृतिक 9 आहार  These natural 9 food enhancing the fertility of women

 food enhancing the fertility of women महिलाओं की प्रजनन क्षमता बढाने वाला भोजनप्रत्येक स्त्री के लिए सबसे अधिक कीमती और मनचाहा पल मां बनना होता है. परन्तु जब किसी स्त्री को माँ बनने में कठिनाई होती है तो  वह तनावग्रस्त हो सकती है। लकिन महिलाओं में बांझपन कई कारणों से हो सकता है। परन्तु विशेषज्ञों का ऐसा मानना हैं कि उचित आहार व उचित तरीके से आहार लेना भी प्रभावी उपाय है। गर्भधारण में भोजन अपनी अहम भूमिका निभाता है, अधिकतर महिलाएं जिसका ध्यान ही नहीं देतीं। लेकिन, इसके  महत्व को नकारा नहीं जा सकता और भोजन के प्रति की गयी यह लापरवाही गर्भधारण के मद्देनजर काफी गंभीर व नुकसानप्रद सबित हो सकती हैं.
आमतौर पर गर्भवती महिलाओं के भोजन को लेकर खास एहतियात बरती जाती है। उन्हें ऐसा भोजन ही करने को दिया जाता है। जिससे उनके स्वास्‍थ्‍य पर बुरा असर न पड़े। लेकिन, कुछ महिलाएं किन्हीं कारणों से गर्भधारण नहीं कर पाती हैं। इसके पीछे कई अन्य कारणों के अतिरिक्त खराब जीवनशैली भी एक कारण होता है।
1. हरी पत्तेदार सब्जियां
हरी पत्तेदार सब्जियां प्रजनन अंगों को स्वस्थ रखती हैं। खासकर पालक में मौजूद आयरन, फोलिक एसिड व एंटीऑक्सीडेंट्स इस मामले में  काफी मददगार साबित होते हैं। पालक में मिलने वाला फोलिक एसिड ना सिर्फ प्रेंगनेंट होने में मदद करता है बल्कि नवजात में होने वाली समस्याओं से भी बचाता है।
2. पीली व नारंगी सब्जियाँ---
महिलाओं को अपने भोजन में नारंगी व पीले रंग की सब्जियों को शामिल करना चाहिए। ये सब्जियां एंटी ऑक्सीडेंट व बीटा केरोटीन का अच्छा स्रोत होती हैं। बीटा केरोटीन महिलाओं में हार्मोन्स के असंतुलन को कम करता है जिससे उनको कंसीव करने में मदद मिलती है। इसके अलवा इनसे गर्भपात की संभावना भी कम हो जाती है।
3. रेशा युक्त आहार लें----
महिलाओं को अपने भोजन में साबुत अनाज, ब्राउन राइस, गेहूं की ब्रेड, बींस और फ्लैक्स सीड शामिल करना चाहिये। क्योंकि ये रेशे वाले आहार हैं जो पचने में आसान होते हैं, अगर पाचन क्रिया सही रहेगी तो शरीर में कोई भी विषैला तत्व भी नहीं रहेगा।
4. ज्यादा पानी पीएं----
स्वस्थ्य रहने के लिए ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए यह तो सभी जानते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं ज्यादा पानी पीने से कंसीव करने भी मदद मिलती है। ज्यादा पानी पीने से प्रजनन अंग ठीक से कार्य करते हैं और उन तक प्राकृतिक तरल पदार्थ जिससे स्पर्म सर्विक्स तक आसानी से पहुंचते हैं.
5. गाजर खाएं----
महिलाओं को गर्भवती होने के लिए जरूरी है कि उनके मासिक धर्म नियमित हो. इसके लिए गाजर, मटर, स्वीट पटैटो  आदि का सेवन करें इससे मासिक धर्म नियमित रहेगा और आप जल्दा कंसीव कर पाएंगी।
6. विटामिन सी लें---
विटामिन सी वाले आहार, जैसे- संतरा, स्ट्रॉबेरी, ब्लूबेरी व किवी फ्रूट का नियमित सेवन करने से महिलाओं को कंसीव करने में मदद मिलती है।
7. डेयरी प्रोडक्ट भरपूर लें---
डेयरी प्रोडक्ट महिलाओं में प्रजनन क्षमता को बढ़ाते हैं. इसलिए महिलाओं को दूध, दही खाना चाहिए इसके अलावा मछली में मिलने वाला एमीनो असिड भी फर्टिलिटी बढ़ाता है. इसलिए आप इसे भी अपने खाने में शामिल कर सकती हैं।
8. बादाम व ओमेगा 3 फैटी एसिड युक्त भोजन लें ----
गर्भवती होने के लिए महिलाएे बादाम, अखरोट और एप्रीकॉट भी खा सकती हैं. इसमें ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है, जो कि शरीर के लिए काफी जरूरी है।
9. ताजे और ऑरगेनिक फल----
प्रेगनेंसी की चाहत रखने वाली महिलाओं को अपनी डाइट में ताजे और ऑरगेनिक फल अवश्य ही शामिल करने चाहिये। इन्हैं ज्यादा से ज्यादा ताजे फल लेने चाहिये और ऐसे फल जो पैक या प्रिजर्व करके रखे रहते हैं, उनमें केमिकल मिला होता है। इन प्रीजर्व फलों से यथा संभव बचना चाहिये।
और हाँ, अन्त में सबसे महत्व पूर्ण बात यह है कि एल्कोहल और धूम्रपान से करें तौबा कर लें।
डॉक्टर भी मानते हैं कि धूम्रपान और एल्कोहल का गर्भधारण की क्षमता पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। चिकित्सक सलाह देते हैं, कि अगर आप गर्भधारण करना चाहती हैं तो बेहतर रहेगा कि आप इन सब चीजों से दूर रहें,अन्यथा आपको गर्भधारण में समस्या आ सकती है।

mahilaon kee prajanan kshamata ko badhaane vaale ye praakrtik 9 aahaar

No comments:

Post a Comment

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।