नागबला - एक सर्वोत्कृष्ट औषधि- Nagbala- An Excellent ayurvedic medicine - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment System developed in India that has been passed on to humans from the God Dhanvantari, themselves who laid out instructions to maintain health as well as fighting illness through therapies, massages, herbal medicines, diet control, and exercise.

Sidebar Ads

test banner

Healthcare https

Ayurvedlight.com

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Thursday, October 12, 2017

नागबला - एक सर्वोत्कृष्ट औषधि- Nagbala- An Excellent ayurvedic medicine

Nagbala A Medicinal plant in Ayurveda 

नागबला Nagbala Plant  टिलिएसी TILIACEAE कुल का पौधा है जिसे संस्कृत में नागबला व गुडशर्करा के नाम से जाना जाता है।इसका वैज्ञानिक नाम वानस्पतिक नाम ग्रेविया हिर्सटा Grewia-Hirsuta है।जो समुद्रतल से 3500 फीट  के ऊपर ऊंचाई पर क्षैतिज क्षेत्र में उपलब्ध है।

 नागबला को हिंदी में गुलशक्री, गुदखंडी,मराठी में गोवली Govli, तेलगु में जिविलिकी Jivilike तमिल में तविदु Tavidu के नाम से जाना जाता है। इसकी जड़ का आयुर्वेदिक योगों में प्रयोग किया जाता है जिसकी मात्रा 3 से 6 ग्राम चूर्ण के रुप में प्रयोग किया जाता है।अगर इसकी जड़ का क्वाथ लिया जाऐ तो मात्रा 50 से 60 मिलीलीटर लेना चाहिये।


 नागबला के आयुर्वेदिक गुण- GUNA (Quality)-

Nagbala-Ayurvedic properties

 नागबला गुरु, स्निग्ध व पिच्छल है जो स्वाद अर्थात रस RASA (Taste) में  मधुर व कषाय रस वाली औषधि है। यह विपाक  अर्थात  (Metabolism)में -मधुर है। इस औषधि की तासीर अर्थात VIRYA (Potency) वीर्य-शीतवीर्य और रसायन प्रभाव (Impact)रखती है।

नागबला के चिकत्सकीय उपयोग- 

Nagbala- medical use

THERAPEUTIC USES - Mental diorders मानसिक विकार · Nervin disorders तंत्रिका या नर्व के विकार · Uterine isorders मूत्र संबंधी विकार,Urinary tract infection मूत्र पथ रुकने के विकार,Rasayan रसायन, Strength and vigour ताकतवर · Anti-pyretic · Heart ailments हृदय विकारों में लाभकारी

FORMULATIONS (IS)- यह औषधि नीचे लिखे योगों का एक प्रमुख घटक है।

Lakshmvilasa rasa (Nardadiya) लक्ष्मीविलास रस, Maha Vishgarbha Taila महाविषगर्भ तेल,Manashamitra Gutika मानस मित्र गुटिका तथा Shatawaryadi Churna शतावर्यादि चूर्ण में इस औषधि का उपयोग किया जाता है।

नागबला के अन्य उपयोग-Nagbala-Other use

नागबला का उपयोग हृदय रोग में होता है नागबला की जड़ और अर्जुन वृक्ष (टर्मिनलिया) की छाल का मिश्रण मिलाकर दूध के साथ प्रयोग किया जाता है। इस नुस्खे के एक महीने के प्रयोग से यह गर्मी की बीमारी, खांसी और डिस्पेनिया को भी समाप्त कर देता है।अगर एक वर्ष के लिए इस उत्कृष्ट रसायन को प्रयोग किया जाऐ तो व्यक्ति आयुर्वेदानुसार सौ वर्षों पूर्ण जीवन को प्राप्त करता है।
नागबला सामान्य विकृति और मांसपेशी के रोगों, व मानसिक रोगों में एक उपयोगी टॉनिक है। यह मस्तिष्क के लिए एक बेहतरीन टॉनिक है।
यह एक बेहतरीन रसायन व श्रेष्ठ वाजीकारक है जो वात और पित्त के दोषों को दूर करने वाला है। जो व्यक्ति के शरीर में सभी धातुओं का सम्वर्धन करता है।

पारंपरिक उपयोग: Nagbala benefits

नागबला का उपयोग-बजन वढ़ाने में 

Nagbala- to increase weight

अगर नागबला के चूर्ण को शुद्ध देशी घी और शहद के साथ लिया जाए तो यह पाउडर वजन बढ़ाने में उपयोगी होता है।

नागबला का उपयोग-हृदय व फेंफड़ों की मजबूती के लिए---

Nagbala - Used for the strengthening of the heart and lungs

नागबला के चूर्ण को दूध से लिया जाता है तो यह हृदय और फेफड़ों को मजबूत करता है, इसलिए हृदय रोगों और श्वसन रोगों में फायदेमंद होता है जिससे फेंफड़ों व हृदय को ताकत प्राप्त होती है।
 नागबला सेवनीय मात्रा----
नागबला के चूर्ण की एक से छह ग्राम मात्रा दूध अथवा घी व शहद अथवा लहसुन के साथ लेना पर्याप्त है।


No comments:

Post a Comment

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।

AYURVEDLIGHT Ad

WWW.AYURVEDLIGHT.COM