प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधन है मुल्तानी मिट्टी - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Tuesday, May 30, 2017

प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधन है मुल्तानी मिट्टी

आज से बीस पच्चीस बर्ष पहले तक गाँवो में महिलाऐं ही नही अपितु सम्पूर्ण जन समाज के बीच मुल्तानी मिट्टी नहाने में बहुत काम आती थी। किन्तु आजकल की बाजारु चमक ने पुराने प्राकृतिक औषधीय वस्तुओं के प्रयोग से समाज का ध्यान वँटा दिया है जिसके कारण आज समाज में अनेको रोग पैदा हो रहैं है एसे में जरुरत है कि इन बाजारु चीजों से दूर होकर पुनः प्रकृति की गोद में बैठा जाऐ जहाँ हम महफूज रह सके और महफूज रह सके हमारा अपना अमूल्य स्वास्थ्य और हम बने रहें जीवन के अंत तक निरोगी। मुल्तानी मिट्टी त्वचा की सुंदरता बढ़ाने के लिए  एक ऐसा नुस्खा है, जिसका उपयोग

प्राकृतिक सौन्दर्य प्रसाधन है मुल्तानी मिट्टी

सभी लड़कियां कर सकती हैं। त्वचा किसी भी तरह की हो या फिर त्वचा की कोई भी समस्या हो, मुल्तानी मिट्टी बहुत फायदेमंद है। इस गुणकारी मिट्टी का उपयोग सबसे ज्यादा सौंदर्य प्रसाधन के रूप में किया जाता है. मुल्तानी मिट्टी चेहरे पर लगाने से त्वचा गहराई से साफ हो जाती है और रंगत भी निखर जाती है. वहीं बालों को डीटॉक्स करने के लिए भी इसका उपयोग किया जाता है.

मुल्तानी मिट्टी त्वचा को बहुत सारे फायदे पहुंचाती है. इसके इस्तेमाल से त्वचा से जुड़ी लगभग हर समस्या दूर हो जाती है. इसे गुलाब जल या फिर टमाटर के रस में मिलाकर लगाने से आपकी त्वचा सुंदर और स्वस्थ बनी रहती है. आइए जानते हैं इससे होने वाले फायदे.

चेहरे को चमकदार बनाती है
अगर आपकी त्वचा अपनी प्राकृतिक चमक खो चुकी है और आप इसे वापस लाने के तमाम उपाय करके थक चुकी हैं तो मुल्तानी मिट्टी का उपयोग करें. त्वचा को चमकदार बनाने के लिए मुल्तानी मिट्टी में चंदन पाउडर और टमाटर का रस मिलाकर लगाएं और सूखने पर गर्म पानी से धो लें. इससे आपकी त्वचा की प्राकृतिक चमक लौट आएगी.

त्वचा की कोमलता लौटाए
अगर आप अपनी रूखी त्वचा से परेशान हैं तो रात में कुछ बादाम दूध में भिगोकर रखें. सुबह इन्हें पीसकर मुल्तानी मिट्टी और दूध के साथ मिलाकर फेसपैक तैयार करें और चेहरे पर लगाएं. सूखने पर ठंडे पाने से धो लें. इससे आपकी त्वचा नर्म और मुलायम बन जाएगी.

ऑयली त्वचा के लिए
अगर आप ऑयली त्वचा की चिपचिपाहट से परेशान हैं और बार-बार चेहरा धोने पर भी ये समस्या खत्म नहीं होती तो मुल्तानी मिट्टी का उपयोग करें. इसके लिए गुलाब जल के साथ मुल्तानी मिट्टी मिलाकर फेसपैक तैयार करें और रोज चेहरे पर लगाएं.

टैनिंग हटाने के लिए
गर्मियों के मौसम में त्वचा की टैनिंग एक आम समस्या है और आपकी इस समस्या का हल भी मुल्तानी मिट्टी ही है. इसके लिए मुल्तानी मिट्टी, नारियल तेल और शक्कर मिलाकर चेहरे पर लगाएं और थोड़ी देर बाद हल्के हाथों से रगड़कर इसे निकालें. धीरे-धीरे त्वचा की टैनिंग चली जाएगी.

No comments:

Post a Comment

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।