योनि का ढीलापन या योनिशैथिल्य - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment System developed in India that has been passed on to humans from the God Dhanvantari, themselves who laid out instructions to maintain health as well as fighting illness through therapies, massages, herbal medicines, diet control, and exercise.

Sidebar Ads

test banner

Healthcare https

Ayurvedlight.com

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Tuesday, October 4, 2016

योनि का ढीलापन या योनिशैथिल्य

योनि का ढीलापन या योनिशैथिल्य कारण व निवारण

यौनि का ढीलापन, यौनि का ढीला होना
योनि का ढीलापन या योनि शैथिल्य
प्रकृति ने स्त्री व पुरुष दोनो को ही शरीर रुपी वरदान दिया है।वह अपने आप में अनुपम है।और उसके प्राकृतिक रुप में ही वह आनन्ददायक है और फिर यह बात हम अगर सेक्स अंगो के वारे में कह रहे हैं तो इस बात का महत्व और भी बढ़ जाता है।
yoni ka dheelapan ya yonishethilya योनि का ढीलापन या योनि शेथिल्य
योनि शेथिल्य या योनि का ढीलापन
योनि स्त्री का प्रमुख सेक्स अंग है और संभोग के समय प्राकृतिक रुप से स्त्री व पुरुष को जो आनन्द प्राप्त होता है ।उसमें योनि का अपना महत्व पूर्ण योगदान है।किन्तु कई कारणों से बच्चे को जन्म देते समय या सेक्स में अधिकता से  जव योनि के आकार में वृद्धि हो जाती है तब स्त्री व पुरुष के संभोगानन्द मे कमी आ जाती है।


योनि के ढीलेपन के कई कारण निम्न हैं।



1- शारीरिक दुर्वलता या शिथिलता की स्थिति में स्त्री की योनि कमजोरी के कारण फैल जाती है।
2-अप्राकृतिक संभोग या जबरन पुरुष साथी द्वारा ताकत से संभोग करने पर योनि की दीवारों पर क्षोभ उत्पन्न हो जाने के कारण से भी योनि शिथिल या ढीली हो सकती है।
3- बार बार प्रसव के कारण भी योनि ढीली हो जाती है।
4- खतरनाक सेक्स आसनों का नाजानकारी में प्रयोग भी स्त्री की योनि पर प्रभाव डाल देता है।
5- अत्यधिक संभोग, योनिगत स्रावों की अधिकता जैसे प्रमेह, श्वेत प्रदर,  रक्त प्रदर आदि रोगोंं का होना भी योनि के ढीले पन के पैदा होने का कारण  हो सकता है।
वैसे योनि का ढीला पन योनि के मांसपैशियों के तंतु ढीले हो जाने से होता है।चाहै कारण कोई भी क्यों न हो।
इस रोग का प्रभाव दोनो पार्टनरों पर पड़ता है।और रोग की अधिकता में योनि के बाहर निकलने का खतरा रहता है।

leucorrrhoea-- a disease of most women in this time 

कैसे मालुम हो कि योनि ढीली है।
वैसे तो यह मालुम करना कोई कठिन काम नही है यह ज्यादा तर आपका पुरुष साथी बता ही देता है फिर भी अगर आपको इसमे कुछ संदेह है तो आप इस तरीके से भी पता लगा सकती हैं ।
1-सिकोड़ कर देखो कि क्या यह पूरी तरह बंद हो पा रही है।अगर नही तो पार्टनर की बात सही है।
2-आप अपनी एक उंगली योनि के भीतर रख कर देख सकती हैं कि क्या आपको उत्तेजना हो रही है अगर नही तो पार्टनर की बात सही है।
3- और भी गम्भीर स्थिति तब है जवकि आपकी योनि के ओष्ठ खुले हुय़े हैं।

प्राकृतिक उपचार- योगासन के द्वारा

उपर दिये गये कारणों को समाप्त करके तथा कुछ योगासन करके आप इस रोग को कुछ हद तक कम कर सकती हैं वाकी का काम आयुर्वेदिक योग कर देते हैं ।
  अगर  आप पेशाब करते समय कुछ समय के लिये पेशाब को रोके रहें तथा फ़िर चालू करे ऐसा जब भी पेशाब करने जाऐं तभी 3-4  बार करें इससे योनि की पेशियां सुद्रड़ होती हैं। वज्रासन की स्थिति में बैठकर शंखचालिनी मुद्रा और मूल बंध लगाने का अभ्यास नियमित करने से भी योनि संकोच होता है।

योनि के ढीलेपन का आयुर्वेदिक उपचार-

स्त्री रोगों की परम हितकारिणी आयुर्वेदिक औषधि सुपारी पाक इस रोग में भी अपना अनूठा प्रभाव दिखाती है

  तो सुपारी पाक- 5 से 10 ग्रा. सुबह व शाम को दूध से सेवन करें।तथा शाम को बंग भस्म 1 रत्ती, सेमल के फूल का गोंद अर्थात मोचरस- 1 ग्रा.,शहद के साथ मिलाकर चाट लें।

साथ ही निम्न प्रयोगों मे से कोई एक करें-


  • हरा माजूफल,फिटकरी के आग पर किये हुऐ फूले व गुलाव के फूल बराबर मात्रा में लेकर वारीक से वारीक पीस लें।इसे योनि में रखकर एक वारीक सा कपड़ा ढीला ढाला सा बाँध ले।यह प्रक्रिया लगातार फायदा न होने तक करें।
  • ढाक के गोंद की बत्ती बनाकर योनि में रखें।
  • आँवले पेड़ की छाल पानी मे 24 घण्टा पानी में भिगोकर इस पानी से ही योनि को धोऐं कुछ दिनों इस प्रयोग को लगातार बिना नागा किये करने से योनि निश्चित ही स्वभाविक अवस्था में आ जाएगी।यह कार्य आप रोजाना नहाते समय कर सकती हैं।
  • तीन हिस्सा फिटकरी व एक हिस्सा  माजूफल का गूदा एक भाग पीसकर किसी मखमल के कपड़े की पोटली बनाकर रात को सोते समय योनि में रखने से योनि सिकुड़ जाती है।

गुप्त रोग व लाभकारी आयुर्वेदिक योग,योनि का ढीलापन,योनिशैथिल्य,कैसे मालुम हो कि योनि ढीली है,

8 comments:

  1. Nice to read tips in hindi. For different breastfeeding posture visit our blog dishanirdesh.

    ReplyDelete
    Replies
    1. dear i feel nice to know that you also have a good blog. your blog is also very nice.

      Delete
  2. Thanks for sharing very useful information. Loosing vagina is a major problem these days. Men like tight vagina. We have best herbal treatment for loose vagina.Visit
    http://www.vagitotcream.com/

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks for comming and giving a right comment for this disease.

      Delete
  3. Loose vagina causes stress in relationship. Herbal treatment is one of the most trusted and popular solution for women who suffer from loose vagina issues. It works within inside of the body. Visit http://www.vagitotcream.com/

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks Sangeeta ji sadar abhinandan to u to come and giving a nice comment. Yes this disease give stress in relationship. But any disease can be cure with passion and right treatment so both person should be make passion for this treatment.

      Delete
    2. Thanks Sangeeta ji sadar abhinandan to u to come and giving a nice comment. Yes this disease give stress in relationship. But any disease can be cure with passion and right treatment so both person should be make passion for this treatment.

      Delete
  4. Loose vagina is an embarrassing condition for women. No need to look elsewhere because herbal vagitot cream has proven to be safe and effective.

    ReplyDelete

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।

AYURVEDLIGHT Ad

WWW.AYURVEDLIGHT.COM