कैसे करें माँ भगवती आदिशक्ति की नवरात्र में पूजा - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Friday, September 30, 2016

कैसे करें माँ भगवती आदिशक्ति की नवरात्र में पूजा


नवरात्र माँ भगवती आदिशक्ति के सभी स्वरुपों की आराधना का सर्वश्रेष्ठ समय है।वैसे भी भगवती के नौ रुप जो क्रमशः शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघण्टा, कूष्माण्डा, स्कंदमाता, कात्यायनी,कालरात्रि,महागौरी व सिद्धिदात्री हैं नवरात्र के नौ दिनों के पर्व पर इन नौ स्वरुपों की पूजा करके भक्त कृतार्थ होते हैं।और माँ भगवती दुर्गा उनके सभी मनोरथ पूर्ण करतीं हैं।जैसा कि माँ का नाम है दुर्गा तो माँ दुर्गा दुर्ग के समान व्यक्ति की समस्याओं के सामने खड़ी हो जाती है और उसके सकल मनोरथ सिद्ध कर अपना यह नाम सार्थक करती हैं माँ दुर्गा व्यक्ति को दुर्गति से बचाती हैं। यही कारण है कि भक्त अनादिकाल से माँ भगवती की पूजा कर उनका प्रसाद पाने के लिए चारों नवरात्रों का उत्सुकता से इंतजार करते हैं।देवी माँ की पूजा जहाँ श्रद्धा व भक्ति से तो की ही जाती है वहीं इस पूजन को ठीक प्रकार से करना भी अनिवार्य होता है।क्योंकि अगर पूजन ठीक प्रकार से नही होगा तो आप उचित लाभ नही उठा पाऐंगे।देवी पूजा का पूर्ण फल प्राप्त करने के लिए कुछ सामान्यबाते निम्न है जिनका अवश्य ही ध्यान दिया जाना चाहिये।
1.       घर में दुर्गा माँ की तीन तस्वीरे या प्रतिमाऐं न रखें अगर हैं तो इनमें से कम से कम एक को अवश्य ही हटा दें।


2.       माँ  की पूजा हमेशा पूर्व, उत्तर या उत्तर पूर्व की और मुँह करके ही करें।
3.       घर में माता के सोम्य रुप की ही तस्वीर या प्रतिमाऐं लगाऐं।
4.       माँ की दो प्रतिमाऐं हैं तो दोनों प्रतिमाओ को बराबर सम्मान दें उन्हैं नमन करें।
5.       माँ काली की पूजा के लिए पूजा में काले तिल अवश्य प्रयोग करें।
6.       धन प्राप्ति के लिए माँ लक्ष्मी की स्फटिक मूर्ति को अपने पूजा स्थान में रखें।
7.       पूजा करते समय आसन ऊन या कंबल का रखें अच्छा होगा अगर काली माँ की आराधना कर रहे हैं तो काली ऊन का आसन, माँ बग्लामुखी की पूजा के लिए पीली ऊन का आसन, माँ लक्ष्मी या दुर्गा माँ की आराधना के लिए लाल ऊन का आसन रखे।
8.       माँ दुर्गा की आराधना के लिए लाल फूल का मह्त्व सर्वाधिक होता है अतः कोशिश करके लाल फूल रखें।

9.       खंडित या टूटी फूटी प्रतिमाऐं पूजास्थान में न रखें उन्हैं कोशिश करके जल प्रवाह कर दें।

No comments:

Post a Comment

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।