धनिया के 8 फायदे :---- एसिडिटी और आंखों की जलन दूर करने में भी कारगर , Coriander Leaves Not Only Add Good Taste To The Food, But Also It Has Lots Of Health Benefits. - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Friday, March 6, 2015

धनिया के 8 फायदे :---- एसिडिटी और आंखों की जलन दूर करने में भी कारगर , Coriander Leaves Not Only Add Good Taste To The Food, But Also It Has Lots Of Health Benefits.

धनिया तो हर भारतीय रसोई का अभिन्न हिस्सा है। बतौर मसाला और व्यंजनों का स्वाद बढ़ाने के लिए इसे खूब इस्तेमाल किया जाता है। चाहे धनिया की हरी ताजा पत्तियों की बात हो या इसके सूखे हुए बीज, इनका इस्तमाल घर घर में किया जाता है। आधुनिक विज्ञान धनिया के अनेक औषधीय गुणों की पैरवी करता है और आज हम आपको इससे जुड़े पारंपरिक ज्ञान के बारे में बताने जा रहे हैं।


1) आंखों की जलन भगाता है
सौंफ, मिश्री व धनिया के बीजों की समान मात्रा लेकर चूर्ण बना कर 6-6 ग्राम प्रतिदिन भोजन के बाद खाने से हाथ पैर की जलन, एसिडिटी, आंखों की जलन, पेशाब में जलन और सिरदर्द दूर होता है।
2) गैस से छुटकारा
राजस्थान के काफी हिस्सों में धनिया की चाय स्वास्थय सुधार के हिसाब से दी जाती है। लगभग 2 कप पानी में जीरा, धनिया, चायपत्ती और कुछ मात्रा में सौंफ डालकर करीब 2 मिनिट तक खौलाया जाता है, आवश्यकतानुसार शक्कर और अदरक डाल दिया जाता है। कई बार शक्कर की जगह शहद डालकर इसे और भी स्वादिष्ठ बनाया जाता है। गले की समस्याओं, अपचन और गैस से त्रस्त लोगों को इस चाय का सेवन कराया जाता है।
3) नकसीर दूर होती है


हरे ताजे धनिया की पत्तियां लगभग 20 ग्राम और उसमें चुटकी भर कपूर मिला कर पीस लें और रस छान लें। इस रस की दो बूंदे नाक के छिद्रों में दोनों तरफ टपकाने से तथा रस को माथे पर लगा कर हल्का-हल्का मलने से नाक से निकलने वाला खून, जिसे नकसीर भी कहा जाता है, तुरंत बंद हो जाती है
4) आंखों से पानी गिरने की समस्या दूर


थोड़ा सा ताजा हरा धनिया कुचल लें, पानी में उबाल कर ठंडा कर लें, मोटे कपड़े से छान कर शीशी में भर लें और इसकी दो बूंदे आंखों में टपकाएं। इसे आंखों में टपकाने से आंखों में जलन, दर्द और आंख से पानी गिरने की समस्याएं दूर हो जाती हैं।
5) मासिक धर्म के दौरान होने वाली समस्याओं में फायदा






धनिया महिलाओं में मसिक धर्म संबंधी समस्याओं को दूर करता है। अगर मासिक धर्म साधारण से ज्यादा हो, तो आधा लीटर पानी में लगभग 6 ग्राम धनिए के बीज डालकर खौलाएं और इसमें शक्कर डालकर पिएं, फायदा होगा।
6) त्वचा के लिए फायदेमंद
धनिए को मधुमेह नाशी भी माना जाता है। इसके सेवन से खून में इंसुलिन की मात्रा नियंत्रित रहती है। धनिया त्वचा के लिए भी फायदेमंद है।
7) मुहांसों से छुटकारा
धनिए की पत्तियों को कुचल लिया जाए और इसकी 1 चम्मच मात्रा लेकर चुटकी भर हल्दी का चूर्ण मिलाकर चेहरे पर दिन में कम से कम 2 बार लगाएं। इससे मुहांसों की समस्या दूर होती है और यह ब्लैकहेड्स को भी हटाता है।
8) सर्दी और खांसी में आराम
पातालकोट के हर्रा का छार गांव के आदिवासी धनिया, जीरा और बच की बराबर मात्रा लेकर काढ़ा बनाते हैं। सर्दी और खांसी से पीड़ित बच्चों को भोजन के बाद यह काढ़ा (10 मि.ली.) दिया जाता है।

1 comment:

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।