अण्डकोष की पुष्टि(Ovarian cysts) या सूजन से संबंधी जानकारी - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Tuesday, December 23, 2014

अण्डकोष की पुष्टि(Ovarian cysts) या सूजन से संबंधी जानकारी

अण्डकोष की पुष्टि Ovarian cysts क्या होती है?
अण्डकोष Ovary  के अन्दर या ऊपर जब सूजन हो जाती है या कुछ उग आता है तो उसे अण्डकोष की पुष्टिOvarian cysts कहते हैं यह सख्त भी हो सकती है और तरल भी।
अण्डकोष Ovary  की पुष्टि में क्या कैंसर की सम्भावना रहती है?
अण्डकोष Ovary  मे उग आने वाले पदार्थ अधिकतर कैंसर के नहीं होते।
अण्डकोष की पुष्टिOvarian cysts के the symptoms of ovarian cysts लक्षण क्या हैं?
अण्डकोष की पुष्टि के निम्नलिखित लक्षण हो सकते हैं- (1) अण्डकोष की पुष्टि में अधिकतर औरतों को किन्हीं लक्षणों की अनुभूति नहीं होती, विशेषकर अगर वे छोटे हों। (2) कुछ पुटियां बड़ी हो जाती हैं तो हो सकता है कि उदर में सूजन पैदा करें। (3) पुष्टि कहां पर है, कितनी बड़ी है उसके अनुसार ही मूत्राशय या मल पर दबाव पड़ता है और हो सकता है कि आपको जल्दी-जल्दी (टायलेट) शौचालय में जाना पड़े। (4) आपको पेट में कुछ कष्ट हो सकता है और सम्भोग भी कष्टदायक या पीड़ा भरा हो सकता है। (5) इसका पीरियड पर भी प्रभाव पड़ सकता है, रक्त स्राव अनियमित हो सकता है, पहले के सामान्य प्रवाह से भारी या हल्का हो सकता है। (6) चेहरे या शरीर पर अधिक बाल आ सकते हैं। (7) आवाज भारी हो सकती है।
अण्डकोष की पुष्टिOvarian cysts  का उपचार क्या है?
कभी-कभी पुष्टि बनती है और अपने आप गायब भी हो जाती है जबकि कभी-कभी उसे शल्यक्रिया द्वारा निकालना पड़ सकता है। आपका डाक्टर आपको उसकी सभी सम्भावनाओं के सम्बन्ध में समझाएगा।
पौलीकायस्टिक ओवरी सिन्डरोम (पी सी ओस) क्या होता है?पौलीकायस्टिक का सामान्य अर्थ है ^बहुत सी पुटियां^ जो कि अल्टरासाऊण्ड स्कैन से अण्डकोष पर दिख जाती है।
पी सी ओस के लक्षण क्या हैं?पी सी ओस के लक्षणों में शामिल है- (1) पीरियड की अनियमितता या बिल्कुल न होना (2) अनउर्वरकता (3) शरीर पर अनपेक्षित बाल (4) मुंहासे (5) वजन बढ़ना (6) पेट में तकलीफ।

पी सी ओस का उपचार क्या है?पी सी ओस का उपचार हॉरमोन परक दवाओं या शल्यक्रिया द्वारा हो सकता है। उपचार किस प्रकार किया जाए इसका निर्णय डाक्टर कर सकता है।

No comments:

Post a Comment

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।