शीत ऋतु विशेषांक-खांसी पर प्रयोग किये जाने बाले योग - Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Breaking

Ayurveda : A Holistic approach to Health, age and Longevity

Ayurveda-A Natural Treatment

Ancient Natural Traditional Science

WWW.AYURVEDLIGHT.COM

Saturday, December 29, 2012

शीत ऋतु विशेषांक-खांसी पर प्रयोग किये जाने बाले योग

  • अनार का छिलका,काली मिर्च, मुलहठी, बहेड़ा,पपड़िया कत्था,फुलाया हुआ सुहागा और गुल बनफ्सा 10-10 ग्राम,खाने का चूना 3 ग्राम और देशी पान 50 की संख्या में लेकर सभी सामिग्री को कूट पीस लो और सभी को बबूल की छाल के काढ़े के साथ भिगोकर 1 -1 ग्राम की गोलियाँ बना कर सुखा लों 
मात्रा- सभी प्रकार की खाँसी में 1 -1 गोली ,दिन में 2 -3 बार दे दें।
  • सितोपलादि चूर्ण 3 ग्राम, प्रवाल भस्म,मृगश्रंग भस्म,व सोना माखी की भस्म 1-1 ग्राम की मात्रा में लेकर घोट कर मिला लें 
मात्रा- तुलसी रस व शहद के साथ मिलाकर आधा आधा ग्राम यह दवा दिन में 2-3 बार देने से रोगी को पर्याप्त आराम मिल जाऐगा।यह योग सब प्रकार की खाँसी में लाभदायक है।
  • बृहद पंचमूल( बेल,श्यौनाक,खंभारी,पाढर व अरलू की मूलें) के क्वाथ में पीपल चूर्ण मिलाकर पिलाने से वातजन्य कास में शीघ्र लाभ सम्भब है।
  • भारंगी, कचूर,काकड़ासिंगी, छोटी पीपल,सोंठ और दाख का चूर्ण पुराने गुण व सरसों तेल के साथ सेवन करने से वात जन्य खाँसी दूर हो जाती है।
  • छोटी पीपल, काली मिर्च,मुलहठी,मुनक्का और पिण्ड खजूर का 1 ग्राम चूर्ण असमान मात्रा वाले शहद व देशी घी के साथ चाटने पर पित्तजन्य खाँसी में पूर्णतया आराम मिल जाता है।
  • छोटी पीपल,भारंगी,कचूर,नागरमोथा,जवासा,काकड़ासिंगी व गुड़ का बरावर मात्रा का चूर्ण सरसों के तेल के साथ लेने से भी वातजन्य खाँसी दूर हो जाती है।
  • छोटी पीपल,खील(लाजा),मुनक्का,पिण्डखजूर,और मिश्री सभी बराबर मात्रा लेकर असमान भाग शहद व घी के साथ चाटने से पित्तजन्य खाँसी दूर हो जाती है।
  •  पुस्कर मूल,भारंगी,कायफल,छोटी पीपल, व सौंठ का काड़ा,कफ बाली खाँसी में अति लाभकर है।श्वांस में भी अति लाभकर है।
  • छोटी कटेरी,खिरेंटी,बड़ी कटेरी,अडूसा और मुनक्का के काड़े में मिश्री व शहद मिलाकर पीने से पित्त दोष बाली खाँसी दूर हो जाती है।
  • पंचकोल (पीपल,चव्य,पिपलामूल,चित्रक,व सौंठ) डाल कर उवाला गया दूध कफज खाँसी को दूर करता है।ज्वर तथा श्वांस में भी हितकर है।इससे बल-वर्ण और जठराग्नि में भी वृद्धि होती है।
  • छोटी कटेरी के काड़े में छोटी पीपल का चूर्ण मिलाकर सेवन करने से सभी प्रकार की खाँसी दूर हो जाती है।
  • अदरख के स्वरस में शहद मिलाकर पिलाने से छोटे बच्चों के तो खाँसी,श्वांस,जुकाम,तथा कफयुक्त सभी उपद्रव दूर हो जाते हैं।
  • सूखी मूली,चित्रक मूल और छोटी पीपल का चूर्ण शहद में मिलाकर चाटें।इससे कास, श्वांस तथा हिचकी सभी रोग दूर हो जाते हैं।
  • नागर मोथा,छोटी पीपल, मुनक्का,और पके हुये कटेरी के फल लेकर चूर्ण कर लें,और शहद के साथ चाटें तो क्षयजन्य खाँसी भी दूर हो जाती है।

No comments:

Post a Comment

OUR AIM

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।