BREAKING NEWS

Fashion

Tuesday, October 25, 2016

शीघ्र स्खलन,शीघ्रपतन या शीघ्र वीर्य स्खलन का घरेलू उपचार अर्थात Premature Ejaculation Cure on home

शीघ्र स्खलन,शीघ्रपतन व  Premature Ejaculation Sex Problem रोकने के आसान नुस्खे 

shighra patan rokne ke gharelu upay

शीघ्रपतन के लिए उड़द की दाल व चावल की खिचड़ी
उड़द व चावल की खिचड़ी


  • आधा कटोरी उड़द की धुली हुई दाल औरआधा कटोरी पुराने चावल मिलाकर खिचड़ी बना लें।सुबह मेंं या फिर शाम को इस खिचड़ी को देसी घी डालकर अच्छे से चबा चबा कर खाएं। इसके बाद एक गिलास गुनगुना मीठा दूध पी लें। इसे एक महीनेअपनी पाचन शक्ति के हिसाब से जितनी आसानी से पचा सकें उतनी ही खाएं। शुरूरात में  थोड़ी मात्रा में  लें फिर हजमा देखकर बढ़ाते जाएँ। खिचड़ी खाने की  मात्रा की अपेक्षा अच्छी तरह चबाया जाना जरुरी है ताकि पच सके और इसके पचने पर ही असर होगा। यह शीघ्र पतन का बहुत ही लाभकारी और आसान उपाय है।

    कौंच के बीज नपुंसकता, मर्दानगी व शीघ्रपतन के लिए
    शीघ्रपतन के लिए कौच के बीज
  • 100 ग्राम कोंच के शुध्द बीज(इन्हैं शुद्ध करने की एक विषेश प्रक्रिया है किसी वैद्य से पूँछ लें अथवा मैं ही किसी अगली पोस्ट में दूँगा)  पंसारी के यहाँ से लेकर बारीक पीस लें। इसके बारीक चूर्ण में  250 ग्राम मैदा में मिलाकर पानी से गूंथ लें। अब इसके जामुन के आकार के गोले बना कर देसी घी में तल लें। इन्हे चीनी की चाशनी बनाकर उसमे डुबोकर निकाल कर किसी बर्तन में रखें और इतना शहद डालें की सब गोले शहद में डूब जाएँ। इसमें से एक गोला सुबह और एक शाम को खाली पेट अच्छे से चबा चबा कर खाएं और एक गिलास गुनगुना मीठा दूध पीकर खाने के बाद एक घंटे तक कुछ भी ना खाएं। आवश्यकता के हिसाब से केवल इतने बनायें कि  6 -7 दिन चल जाये। खत्म होने पर फिर से बना लें। महीने भर तक खाएं। शीघ्र पतन रोकने का  बहुत ही असरदार उपाय है।

शीघ्रपतन रोकने का आसान उपाय- शतावर
शतावर
  • शतावर , अश्वगंधा  और गोखरू तीनो  100 -100 ग्राम ( पंसारी के मिलेंगे ) लेकर बारीक पीस कर चूर्ण बना लें। इस चूर्ण में से एक चम्मच लेकर शहद में मिलाकर खा लें। ऊपर से एक गिलास ठण्डा मीठा दूध पी लें। इसे सुबह खाली पेट लें। रात को खाना खाने के दो घंटे बाद लें। तेल ,खटाई कम मात्रा में ही लें या नहीं लें।शीघ्रपतन रोकने का आसान उपाय- गौखरू
    शीघ्रपतन रोकने का आसान उपायअश्वगंधा
    अश्वगंधा -शीघ्रपतन के लिए

  • बबूल की बिना बीज वाली कच्ची फली , बबूल के पत्ते , बबूल का गोंद तीनो को समान मात्रा में लेकर छाया में सुखा लें। तीनो को बारीक पीस कर चूर्ण बना लें। ये चूर्ण एक चम्मच और एक चम्म्च पिसी मिश्री मिलाकर फांक ले ऊपर से गुनगुना मीठा दूध पी लें। ये चूर्ण दो महीने रोज सुबह लेने से शीघ्र पतन ठीक हो जाता है।

  • शीतलचीनी (कबाबचीनी ) का बारीक चूर्ण आधा चम्मच सुबह शाम एक सप्ताह तक पानी के साथ लेने से शीघ्रपतन ठीक होता है।

  • लम्बी और गहरी साँस लेने से उत्तेजना में थोड़ी कमी आ जाती है। सहवास के समय लंबी व गहरी साँस लेकर अवधि बढ़ा सकते है। इसके अलावा बांये नथुने से ज्यादा साँस आ रही हो यानि बायां स्वर चल रहा हो तब स्तम्भन शक्ति ज्यादा होती है ऐसे में सहवास की अवधि लम्बी और आनंद दायक होती है।

  • जामुन की गुठली का चूर्ण एक चम्मच सुबह शाम गर्म दूध के साथ लेने  से शीघ्रपतन मिटता है।



शीघ्र स्खलन का घरेलू इलाज, शीघ्र स्खलन के आयुर्वेदिक उपाय,शीघपतन का इलाज,शीघ पतन के उपाय

Share this:

Post a Comment

Sample Text

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।
 
Back To Top
Copyright © 2014 The Light Of Ayurveda. Designed by OddThemes | Distributed By Gooyaabi Templates