BREAKING NEWS

Fashion

Saturday, October 22, 2016

पौरुष शक्ति वर्धक औषधि कामिनी विद्रावण रस Male Sexual Strengthen Medicine Kamini Vidravan Ras

----------पौरुष शक्ति वर्धक औषधि कामिनी विद्रावण रस------

कामिनी विद्रावण रस वानस्पतिक व खनिज मिश्रण वाली आयुर्वेदिक औषधि है। जो भैषज्य रत्नावली नामक आयुर्वेदिक ग्रंथ से ली गयी है 
कामिनी विद्रावण रस बनाने की विधि---
 सौंठ, अकरकरा, जावित्री, लोंग व चन्दन सभी 12 -12 ग्राम , शुद्ध हिंगुल,शुद्ध गंधक में से प्रत्येक 3-3 ग्राम, व शुद्ध अफीम 48 ग्राम लेकर सर्वप्रथम हिंगुल, गंधक,व अफीम को एक साथ घौट लें फिर अन्य दवाऔं का कपड़छन चूर्ण बना कर इसी में मिला लें तथा शीतल जल में घोट कर 250 मिलीग्राम की गोलियाँ वना लें और छायादार स्थान पर सुखा लें इस प्रकार वनी 1-1 गोली को रात को सोते समय से 1 घण्टा पहले दूध के साथ ले लें। यह दवा उत्तम प्रकार से स्तम्भन के काम आती है। जिन लोगों को स्त्री के पास पहुँचते ही स्खलन हो जाता है उनके लिए यह एक अच्छी व सफल औषधि हैं। अर्थात यह शीघ्रपतन की एक बढ़िया औषधि है।

पोरुष शक्ति वर्धक कामिनी विद्रावण रस की मात्रा व अनुपान----

कामिनी विद्रावण रस की 1 -1 गोली प्रतिदिन रात को सोने से 1 घंटा पहले दूध के साथ लेंवें।

मर्दाना कमजोरी ,शीघ्रपतन, आदि के रोगियों के लिए यह वीर्य को गाढ़ा करने वाली व स्तम्भक औषधि है अर्थात सेक्स करते समय जिन पुरुषों का वीर्य तुरंत निकल जाता है, उनके शुक्राशय व शुक्रवाहनियों को मजबूत करके यह स्तम्भन शक्ति  प्रदान करता है।

जिन लोगों ने अप्राकृतिक तरीके से मेथुन करके अथवा हस्तमैथुन करके या फिर अत्यधिक स्वप्न दोष के कारण शीघ्रपतन की शिकायत पैदा कर ली है उनके लिए कामिनी विद्रावण रस एक बहुत ही श्रेष्ठ रसायन औषधि है।

यह औषधि वीर्य के पतले पन को दूर करती है, शुक्राशय को मजबूत बनाती है तथा शुक्र लाने वाली नलिकाओं को मजबूती प्रदान करती है। 

ध्यान रखें- यह औषधि चूँकि अफीम अर्थात अहिफेन से बनी हैं अतः इस औषधि को प्रयोग करते समय कई बार कब्ज की शिकायत हो सकती है ऐसा होने पर सुबह दूध लिया जाऐ तो पेट साफ रहता है।  

वीर्य स्तम्भन शक्ति, काम शक्ति वर्धक औषधियाँ, Sexual Strengthen medicine, हस्त मैथुन, वीर्यपतन, स्वप्न दोष

Share this:

Post a Comment

Sample Text

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।
 
Back To Top
Copyright © 2014 The Light Of Ayurveda. Designed by OddThemes | Distributed By Gooyaabi Templates