BREAKING NEWS

Fashion

Sunday, January 6, 2013

स्वप्न दोष नाशक आयुर्वेदिक योग


1.       स्वप्न दोष दूर करने के लिए सबसे पहले कब्ज दूर करने से रोग की ताकत आधी रह जाती है अतः इस रोग के निवारणार्थ 4-5 मुनक्का खाकर उपर से दूध लेवे या फिर हरड़ का व सौंफ का चूर्ण गर्म दूध के साथ लेकर भी कव्ज से छुटकारा पाया  जा सकता है हो सकता है कि आपको इसी से फायदा हो जाए और स्वपन दोष रुक जाए।
2.       स्वप्न दोष अर्ध निद्रा की अवस्था में होने बाला रोग है यदि आपको अच्छी नींद आती है तो यह नही होगा। और जिन्हैं यह रोग है उन्हैं अगर गहरी नीद आने लगे तो भी यह रोग निश्चित ही ठीक हो जाएगा।अतः गहरी नींद के लिए आयुर्वेदिक योग हैं- पिपला मूल 30 ग्राम व गुड़ 40 ग्राम मिलाकर 1-1 ग्राम की गोली बना लें रात को सोने से पहले 1 गोली खाने से अच्छी व गहरी नींद आएगी और यह रोग नही होगा।     
·         त्रिफला चूर्ण 5-6 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन रात के समय ठण्डे दूध से (मामूली कुनकुना) लेते रहने से स्वपन दोष कुछ ही समय में दूर हो जाता है।कोष्ठबद्धता हट जाती है।
·         बबूल का गोंद, गोंद कतीरा,मोचरस व मस्तंगी समान भाग के चूर्ण की 3 ग्राम मात्रा दूध के साथ लेने से पित्त की अधिकता बाले स्वपन दोष की निवृति हो जाती है।
·         शीतल चीनी के 3 ग्राम चूर्ण में 100मिली ग्राम स्वर्ण वंग मिलाकर सुबह व सांय अनार के रस व शहद के साथ सेबन से स्वपन दोष दूर होगा ।
·          भूम्यामलकी या भुई आंवला, अफीम शुद्धी हुयी, कर्पूर और रस सिन्दूर 5-5 ग्राम लेकर खरल करके साथ में शीतल चीनी 10 ग्राम भी बारीक से बारीक पीस कर डाल लें और इसबगोल के पानी में डाल कर चने के दाने जैसी गोलियाँ बना लें इससे सभी प्रकार के स्वपन दोष दूर होंगे ।
सूचना  यह दबा कब्ज बनाती है अतः कोष्ठवद्धता या कब्ज के मरीज  इस दबा का इस्तेमाल न करें।
·         त्रिफला चूर्ण 12 ग्राम व गुड़ 24 ग्राम तथा भीमसेनी कर्पूर 3 ग्राम लेकर पानी के साथ खरल कर के चने के बराबर की गोलियाँ बना लें 1 या 2 गोली प्रतिदिन सुबह सांय को पानी के साथ लेने से शीघ्र ही स्वप्न दोष ठीक हो जाता है।
·         गाय का दूध 200 ग्राम लेकर जमा लें तथा जम जाने पर इसमें 100 ग्राम निर्मली बीज डाल दें तथा 24 घण्टे तक यूं ही रखा रहने दें फिर अच्छी तरह से खरल करके एक चौड़े मुंह के बर्तन में रखकर सूखने दें जब सूख जाए तब दोबारा से खरल करके कपड़ छन करलें ओर औषधि से चौथाई मिश्री मिलाकर रख लें।
यह स्वप्न दोष को दूर तो करेगी ही साथ ही साथ किसी व्यक्ति का वीर्य यदि पतला है (शुक्रतारल्य, शुक्रमेह) तथा किसी भी प्रकार का शुक्रक्षय हो इसके सेबन से दूर होता है।यह एक उत्तम रसायन है।
·         अमर वेल का रस मिश्री मिलाकर पीने से भी स्वप्न दोष शीघ्र ही मिट जाता है।
·         शतावर स्वरस, शहद मिलाकर सुबह शाम पीयें स्वप्न दोष मिट जाएगा।
·         शतावर व सूखे आंवले बराबर मात्रा में लेकर कूट छान कर बारीक चूर्ण बना लेंवे तथा दोनो के बराबर मिश्री मिलाकर पीस लें 3 से 6 ग्राम सुबह शाम 3 से 6 ग्राम लें सभी प्रकार के स्वप्न दोष दूर होंगें।
स्वप्न दोष पर पाताल गारुणी का प्रयोग अगले अंक में यहाँ है।

Share this:

6 comments :

  1. उत्तम जानकारी !! मैंने भी इस पर एक पोस्ट "स्वपनदोष से छुटकारा पाने के लिए आयुर्वेद में वर्णित कुछ उपचार !! लिखी थी जो भी शायद मददगार हो सके !!

    ReplyDelete
    Replies
    1. पूरण जी आप यहाँ पधारे आपका बहुत धन्यबाद
      आपके आयुर्वेदिक लेख सच में ही गहन जानकारी लिए होते हैं मैं आप जैसे अपने परम मित्र पर गर्व करता हूँ कृपया हिन्दु उत्थान के लिए और महेनत कीजिये राष्ट्रधर्म व्लाग एग्रीगेटर के बारे में सभी को बताए मैं जल्दी ही इसे सभी हिन्दुत्व बादियों का साझा व्लाग बनाने की सोच रहा हूँ आपका सहयोग अपेक्षित है ।

      Delete
  2. मेरा सहयोग आपको मिलता रहेगा !!

    ReplyDelete
  3. आप अपने ब्लोगों को तकनिकी ब्लोगों की पोस्टों की मदद लेकर seo फ्रेंड्ली बनाइये ताकि गूगल से ज्यादा से ज्यादा लोग आपके ब्लोगों तक पहुँच सके ,आपके ब्लोगों पर लेख बहुत अच्छे होतें है लेकिन मुझे ऐसा लग रहा है कि गूगल आपके लेखों को बहुत निचे धकेल देता है !!

    ReplyDelete

Sample Text

ध्यान दें-

हमारा उद्देश्य सम्पूर्ण विश्व में आय़ुर्वेद सम्बंधी ज्ञान को फैलाना है।हम औषधियों व अन्य चिकित्सा पद्धतियों के बारे मे जानकारियां देने में पूर्ण सावधानी वरतते हैं, फिर भी पाठकों को सलाह दी जाती है कि वे किसी भी औषधि या पद्धति का प्रयोग किसी योग्य चिकित्सक की देखरेख में ही करें। सम्पादक या प्रकाशक किसी भी इलाज, पद्धति या लेख के वारे में उत्तरदायी नही हैं।
हम अपने सभी पाठकों से आशा करते हैं कि अगर उनके पास भी आयुर्वेद से जुङी कोई जानकारी है तो आयुर्वेद के प्रकाश को दुनिया के सामने लाने के लिए कम्प्युटर पर वैठें तथा लिख भेजे हमें हमारे पास और यह आपके अपने नाम से ही प्रकाशित किया जाएगा।
जो लेख आपको अच्छा लगे उस पर
कृपया टिप्पणी करना न भूलें आपकी टिप्पणी हमें प्रोत्साहित करने वाली होनी चाहिए।जिससे हम और अच्छा लिख पाऐंगे।
 
Back To Top
Copyright © 2014 The Light Of Ayurveda. Designed by OddThemes | Distributed By Gooyaabi Templates